कृषि एवं बागवानी

मध्य प्रदेश में राज्य की लगभग 70 फीसदी आबादी कृषि, बागवानी, पशुपालन और मत्स्य पालन जैसे रोजगारों पर निर्भर है। राज्य के सकल घरेलू उत्पादन में 30 फीसदी हिस्सा इन्हीं कामों का है। छोटे किसानों के पास कृषि योग्य भूमि का सिर्फ 26 फीसदी हिस्सा है। राज्य की कुल कृषि योग्य भूमि में से 3.25 फीसदी पर बागवानी होती है।

कृषि का जलवायु परिवर्तन से दो-तरफा रिश्ता है। एक तरफ कृषि संबंधित गतिविधियों से पर्यावरण में प्रदूषणकारी गैसों की मात्रा में बढ़ोतरी होती है, जबकि दूसरी तरफ जलवायु परिवर्तन से कृषि क्षेत्र भी बहुत गंभीर रूप से प्रभावित होता है। खेतों में फसल की कटाई के बाद बचे हिस्से को जला देने से या पानी के पंप का जम कर इस्तेमाल किए जाने से जहां पर्यावरण प्रभावित होता है, वहीं पारंपरिक तरीके से की जाने वाली खेती से मिथेन गैस का उत्सर्जन बढ़ता है।

मुख्य रणनीतियाँ:

  • भूमि व जल संरक्षण हेतु तकनीकी ज्ञान को बढ़ावा देना
  • शुष्क भूमि कृषि एवं बागबानी को बढ़ावा देना
  • प्रत्येक कृषि जलवायुवीय क्षेत्र हेतु उपयुक्त फसल तंत्र का नियोजन करना
  • टिकाऊ उत्पादकता को लक्ष्यित एवं जलवायु परिवर्तन जोखिम प्रबंधन नीतियों का निर्माण
  • नवीन तकनीकियों का विकास और प्रचार एवं शोध गतिविधियों को सुदृढ़ करना
  • जलवायु पूर्वानुमान सूचना सहित कृषि सूचना प्रबंधन का निर्माण
  • बाज़ार हेतु आसान पहुँच और सरल प्रणाली विकास पर अतिरिक्त ध्यान देना
  • नवीन आजीविका स्त्रोतों हेतु ग्रामीण व्यावसायिक केन्द्रों की स्थापना
  • टिकाऊ कृषि, जल प्रबंधन, उर्वरक उपयोग, कृषि-उप-उत्पाद प्रबंधन इत्यादि के बारे में समुदायों का क्षमता वर्धन
  • जलवायु परिवर्तन संबंधी शोध और विकास को बढ़ावा देना
  • जलवायु परिवर्तन चिंताओं के समन्वय हेतु क्षमता वर्धन करना

Related Resources

जल क्षेत्र और जलवायु परिवर्तन सम्बन्धी मुद्दों पर कार्यशाला: कार्यवाही विवरण

जलवायु परिवर्तन पर राज्य ज्ञान प्रबंधन केंद्र द्वारा 'जल क्षेत्र और जलवायु परिवर्तन सम्बन्धी मुद्दों' पर एक कार्यशाला आयोजित की गई. कार्यशाला २१ जून २०१४ को एप्को परिसर के नर्मदा कांफ्रेंस हाल में आयोजित की गयी.

  • जुलाई 18, 2014
  • Resources Type
    : कार्यवाही विवरण
Read More
पर्यावरण संरक्षण और संस्थागत सुद्रढीकरण

पर्यावरण संरक्षण और संस्थागत सुद्रढीकरण

पर्यावरण संरक्षण और संस्थागत सुद्रढीकरण परियोजना मध्य प्रदेश के मंडला जिले में चलाई गयी. यह परियोजना संयुक्त रूप से “ग्रामीण भारत में जलवायु परिवर्तन अनुकूलन” (सी.सी.ए. आर.ए.आई) एवं “फाउन्डेशन फॉर इकोलाजिकल सिक्योरिटी” (एफ.ई.एस) द्वारा चलाई गयी. 

  • जून 20, 2014
  • Resources Type
    : शोध अध्ययन
Read More
भारत में जलवायु परिवर्तन के प्रभावों पर भारत-ब्रिटेन सहभागिता अनुसंधान कार्यक्रम

भारत में जलवायु परिवर्तन के प्रभावों पर भारत-ब्रिटेन सहभागिता अनुसंधान कार्यक्रम

मध्यप्रदेश की संवेदनशीलता तथा अनुकूलता निर्धारण पर्यावरण व वन मंत्रालय भारत सरकार, एवं ब्रिटिश सरकार के ऊर्जा व जलवायु परिवर्तन मंत्रालय भारत-ब्रिटेन संयुक् शोध-अध्ययन परियोजना चलाई गयी.

  • जून 20, 2014
  • Resources Type
    : शोध अध्ययन
Read More

मध्यप्रदेश जलवायु परिवर्तन कार्य योजना – सेक्टर पालिसी ब्रीफ: कुछ महत्वपूर्ण मुद्दे

जलवायु परिवर्तन से निपटने की दिशा में, प्रदेश हेतु उपयुक्त शमन और अनुकूलन रणनीतियों में बेहतर समन्वय के लिए यह कार्य योजना कुछ महत्वपूर्ण रणनीयाँ सुझाती है.

  • जून 20, 2014
  • Resources Type
    : नीति संक्षेप
Read More

सार्वजनिक प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा के लिए सामुदायिक संस्थानों को सशक्त बनाने में मध्य प्रदेश ने दिखाई राह

प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के साथ ही दीर्घकालिक विकास का संतुलन कैसे बनाया जाए, इसे इस केस स्टडी से आसानी से समझा जा सकता है। इसे नाम दिया गया है- ‘मध्य प्रदेश के मंडला जिले में सामूहिक प्राकृतिक संसाधनों के संवहनीय प्रशासन का संवर्द्धन’। मंडला में सतपुडा की पहाड़ियों पर

  • जून 16, 2014
  • Resources Type
    : व्यष्टि अध्ययन
Read More
मध्य प्रदेश राज्य जलवायु परिवर्तन कार्य योजना - कृषि क्षेत्र हेतु पालिसी ब्रीफ

मध्य प्रदेश राज्य जलवायु परिवर्तन कार्य योजना - कृषि क्षेत्र हेतु पालिसी ब्रीफ

मध्य प्रदेश मूल रूप से एक ग्राम प्रधान राज्य है। यहां की लगभग 70 फीसदी आबादी कृषि, बागवानी, पशुपालन और मत्स्य पालन जैसे रोजगारों पर निर्भर है। राज्य के सकल घरेलू उत्पादन में 30 फीसदी हिस्सा इन्हीं कामों का है। छोटे किसानों के पास कृषि योग्य भूमि का सिर्फ 26 फीसदी हिस्सा है। राज्य की कुल कृषि

  • जून 01, 2014
  • Resources Type
    : नीति संक्षेप
Read More