मध्यप्रदेश जलवायु विज्ञान पर ब्रीफिंग नोट

मध्यप्रदेश जलवायु विज्ञान वस्तुतः राज्य कार्य योजना का ही एक अंग है. यह एप्को की जलवायु परिवर्तन इकाई और आवास व पर्यावरण विभाग मध्यप्रदेश शासन की एक संयुक्त पहल है. यह ब्रीफिंग नोट न सिर्फ ये बताता है कि जलवायु परिवर्तन  एक वास्तविकता है, बल्कि यह ये भी बताता है कि यह मुख्य रूप से मानवी गतिविधियों के चलते हो रहा है. यह नोट संभावित परिणामों के उपाय की चर्चा भी करता है. जलवायु परिवर्तन संबंधी वैश्विक और क्षेत्रीय माडल्स आगामी दशकों व शताब्दी के लिए अनुमान उपलब्ध कराते हैं. ये अनुमान सुभेद्यता आकलन और लक्ष्य केंद्रित शमन तथा अनुकूलन रणनीतियों हेतु सरकारो के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण हैं. यह दस्तावेज, विकास नियोजन के सुद्रढीकरण हेतु आवश्यक रणनीतियों की रूपरेखा प्रस्तुत करता है. एवं राज्य को जलवायु परिवर्तन खतरों के प्रति अधिक लोचशील बनाने की चर्चा भी करता है. यह राज्य के विकासमूलक कार्यों वा नीतियों में अनुकूलन और शमन लक्ष्यित रणनीतियों के बेहतर समन्वय को भी बढ़ावा देता है. यह अन्यों से ली गयी जानकारी पर निर्भर है और इस बात को सुनिश्चित करना चाहता है कि जलवायु परिवर्तन संबधी दशाओं के लिए भविष्य में पछताना न पड़े. यह दस्तावेज ब्रिटिश संस्था DFID और नीदरलैंड की संस्था DGIS द्वारा समर्थित प्रोजेक्ट का परिणाम है और विकासशील देशों के लाभ के लिए लक्ष्यित है. 

संसाधन प्रकार:नीति संक्षेप
प्रकाशित तिथि:जून 6, 2014
सभी चित्र को देखें
मध्यप्रदेश जलवायु विज्ञान पर ब्रीफिंग नोट