वीडियो: भारतीय किसानों के लिए जलवायु परिवर्तन से निपटने हेतु एक मोबाइल एप

"रीफ्रेमिंग रियो" एक महत्वाकांक्षी मल्टीमीडिया परियोजना है| इस परियोजना का उद्देश्य सतत एवं टिकाऊ विकास को लेकर एक वैश्विक बहस की शुरुआत करना है| CDKN के सहयोग से IDS एवं IIED के साथ मिलकर यह कार्यक्रम यूरोपियन, राष्ट्रीय एवं वैश्विक श्रोताओं तक टेलीविजन, प्रिंट, ऑनलाइन पब्लिकेशन और सोशल नेटवर्किंग एवं शैक्षिक स्रोतों के ज़रिये अपनी पहुँच बनाना चाहता है|

ये मीडिया आउटपुट यूरोपियन और विकासशील देशों के प्रसारणकर्ताओं, प्रोड्यूसरों, पत्रकारों, युवा फिल्म निर्माताओं और फोटोजर्नलिस्टो के सहयोग से निर्मित किये जा रहे हैं| भारत में सचिन गौर नाम के एक पुरस्कृत सॉफ्टवेयर इंजीनियर और मोबाईल विशेषज्ञ आन्ध्र प्रदेश के जलवायु परिवर्तन की चुनौती से जूझ रहे हिस्सों में जाते हैं| वहां वो पाते हैं कि किसान वर्षा  की अनिश्चितता, फसल खराब होने के डर, मिट्टी व ऋण की समस्याओं से आत्महत्या की हद तक लड़ रहे है|

वे लगातार इन समस्याओं के हल ढूढ़ रहे हैं| इन समस्याओं को देखते हुए संचिन एक ऐसे मोबाईल एप बनाने का निर्णय लेते हैं जिससे कि किसान समस्याओं के हल को एक दूसरे से साझा कर सकें | 

ज्यादा जानकारी के लिए इस एप पर बनी डॉक्यूमेंट्री को देखने के लिए यहाँ क्लिक करें|

विषय-वस्तु: कृषि एवं बागवानी